वीकैंड का बेस्ट ऑप्शन (हरिद्वार-ऋषिकेश)

गर्मियां फुल मूड में हैं और आप अपने मूड को कूल करना चाहते हैं, तो आज हम आपको एक ऐसे टूरिस्ट हब के बारे में बताएंगे, जहां आप अपना वीकैंड बहुत शानदार कर सकते हैं। वैसे तो यहां आप हफ्ते भर भी रहेंगे, तो भी यहां की शांति, खूबसूरती, एडवेंचर्स जिंदगी आपको वापस जाने नहीं देगी। लेकिन दो दिन का ट्रिप यहां बेहद ढंग से बनाया जा सकता है।

आइए, बताते हैं हरिद्वार और ऋषिकेश में क्या है खास, जो आपके वीकैंड को रिलेक्स बनाता है। वीकैंड ट्रिप के लिए सबसे जरूरी होता है, टाइम मैनेजमेंट। इसलिए टाइम मैनेंजमेंट को ध्यान में रखते हुए हमनें यह खबर तैयार की है।

 

  • दिल्ली से हरिद्वार का सफर मात्र छह घंटे का है। अगर आप किसी अन्य राज्य से भी हैं, तो भी आप यहीं से ट्रैवलिंग करें, ताकि आपको ट्रांसपोर्ट की दिक्कत न आए। सैल्फ ड्राइविंग ज्यादा बेहतर होगी

  • कोशिश करें कि शुक्रवार की शाम काम से निपटने के बाद ट्रिप के लिए रवाना हो जाएं। ड्राइविंग रात करने के दो फायदे होते हैं, पहला आपको ट्रैफिक नहीं मिलेगा और दूसरा, अपना दिन घूमने में बिता सकते हैं। अगर आप दिल्ली से 11 बजे तक निकलते हैं, तो आप सुबह- सुबह हरिद्वार पहुंच जाएंगे। हरिद्वार पहुंचने के बाद यहां आप होटल में सामान रखें। होटल ऑनलाइन बुक होते हैं, इसके अलावा गंगा के नजदीक टू स्टार से फाइव स्टार मौजूद हैं।

 

  • होटल में सामान रखने के बाद सबसे पहले सुबह- सुबह गंगा स्नान करें। सुबह गंगा स्नान धार्मिक के साथ- साथ वैज्ञानिक तौर पर भी उत्तम समय होता है। हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार, हरिद्वार यानी हरि के द्वार पर स्नान करने से पाप धुल जाते हैं। वैज्ञानिक तौर पर देखें, तो धरती पर उतरता गंगा का यह द्वार है, जहां शारीरिक बीमारियां भी ठीक होती हैं।

  • गंगा स्नान के बाद आप भोजन करें। होटलों में खाना खूब खाते होंगे, लेकिन हरिद्वार के ढाबों पर खाना जरूर खाएं। आपको खाने में सादगी जरूर महसूस होगी। भोजन के बाद आप मनसा देवी मंदिर के दर्शन करने जा सकते हैं। यह मंदिर पहाड़ की एक चोटी पर मौजूद है। मंदिर पर पहुंचने के लिए पैदल पथ के अलावा झूला भी मौजूद है। मंदिर से गंगा का दर्शय ऐसा है, मानों गंगा आसमान से सीधे धरती पर उतर रही हो। मनसा देवी मंदिर के अलावा हरिद्वार में चंडी देवी मंदिर भी जा सकते हैं। यह बेहद प्राचीन मंदिर है, साथ ही इस मंदिर की भी कई मान्यताएं हैं।

 

  • वैसे तो गंगा के दर्शन अपने आप में सब कुछ हैं, लेकिन आरती में शामिल होना भी एक कर्तव्य माना जाता है। हरिद्वार में हर की पोड़ी पर शाम पांच बजे के बाद गंगा मां की आरती का आयोजन शुरू हो जाता है। यह आरती दुनिया भर में मशहूर है। गंगा मां की आरती में विदेशी पर्यटक भी उत्सुकता के साथ शामिल होते हैं। हर की पोड़ी पर होने वाली गंगा आरती कई फिल्मों का हिस्सा रही है।

 

  • एक दिन में हरिद्वार यूं घूमने के बाद अगले दिन सुबह-सुबह ऋषिकेश के लिए निकल जाएं। हरिद्वार से ऋषिकेश का सफर मात्र एक घंटे की दूरी है। ऋषिकेश की खासियत एडवेंचर स्पोर्टर्स है। यहां आप राफ्टिंग, क्लिफ जंपिंग, जिप लाइन, बंजी जंपिंग, ऐबसीलिंग, फ्लाइंग फॉक्स, कायाकिंग, ट्रैकिंग आदि हैं। यह जरूर है कि आप सारे गेम्स एक दिन में नहीं खेल सकते, लेकिन दो से तीन एडवेंचर जरूर कर सकते हैं। हां, वही चुनें जो समय की बर्बादी न करे।

  • एडवेंचर के साथ- साथ ऋषिकेश योग, शांति, मेडिटेशन के लिए भी जाना जाता है। अगर आप एक दो दिन और रुक सकते हैं, तो यहां के आश्रम जरूर घूमें। योग भी कर सकते हैं। हालांकि, आश्रमों के अलावा सफेद रेत के गंगा तट पर समय जरूर बिताएं। यहां का वातावरण आपको शोर भरी दुनिया से दूर मन को काफी आराम देगा।

  • वैसे तो, ऋषिकेश में कैपिंग पर अब बैन लग चुका है, लेकिन कई कैंपेन ऐसे हैं, जहां गंगा के नजदीक ही मौजूद हैं। यहां आप बोन फायर यानी आग लगाकर दोस्तों के साथ अच्छी शाम बिता सकते हैं। ऋषिकेश के वातावरण में पॉजिटिविटी यानी सकारात्मकता ही पर्यटकों को यहां खींच लाती है।

 

  • ऋषिकेश में एक खेल ऐसा भी है, जो काफी कम लोग जानते हैं। यहां आप पैंट बॉल खेल सकते हैं। यह गेम आपको काफी कम जगह देखने को मिलेगा। पेंट बॉल खेलने के लिए आपको ऋषिकेश से आगे नीलकंठ रोड और वीभद्र रोड पर जाकर खेल सकते हैं। यहां एक्स पैंटबॉल एडवेंचर और पैंटबॉल एडवेंचर नाम से आउटडाेर गैम्स हब हैें। 

Photo Credit : Google Images

 

त्रिभुवन शर्मा ने पत्रकारिता में अपने करियर की शुरुआत द टाइम्स ऑफ इंडिया ग्रुप के हिंदी अख़बार "सांध्य टाइम्स" के साथ साल 2013 में की थी. 4 साल अख़बार में हार्डकोर जर्नलिज्म को वक़्त देने के बाद उन्होंने Nightbulb.in को 2018 में लॉन्च किया

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer