love-child-maternal-uncle-nightbulb-hindi-story-article-poem-blog

टिल्लम-टिल्ली, टुल्लम-टुल्ला

टिल्लम-टिल्ली, टुल्लम-टुल्ला
चिल्लम-चिल्ली, हल्ला-गुल्ला

सच कहते हैं मामा हम तो
करते कभी न हल्ला-गुल्ला
मामा यदि खिला देते तुम,
हमको बरफी और रसगुल्ला

टिल्लम-टिल्ली, टुल्लम-टुल्ला
चिल्लम-चिल्ली, हल्ला-गुल्ला

कान न कभी तुम्हारे खाते
उधम कभी भी नहीं मचाते
संग में अपने जो ले आते
मामा तुम दही-भल्ला

टिल्लम-टिल्ली, टुल्लम-टुल्ला
चिल्लम-चिल्ली, हल्ला-गुल्ला

चीजों का न शोक मनाते
सारी चीज जगह पर पाते
मामा यदि दिला देते तुम
हमको गेंद और बल्ला

टिल्लम-टिल्ली, टुल्लम-टुल्ला
चिल्लम-चिल्ली, हल्ला-गुल्ला

हम तो प्यारे-प्यारे बच्चे
मन के हैं हम बिल्कुल सच्चे
कभी भी तुमको नहीं सताते
चाहो तो चंपी करवाते
मामा यदि सुना देते तुम
हमको कोई हंसगुल्ला

टिल्लम-टिल्ली, टुल्लम-टुल्ला
चिल्लम-चिल्ली, हल्ला-गुल्ला

वानर सेना हम बन जाएं
दिन में भी तारे दिखलाएं
मामा यदि तुमने बोला
हमको कभी निठल्ला

टिल्लम-टिल्ली, टुल्लम-टुल्ला
चिल्लम-चिल्ली, हल्ला-गुल्ला

 

Image sourcewww.pexels.com

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer