एक आम सिरदर्द ब्रेन ट्यूमर हो सकता है. पढ़ें यह जरुरी खबर

वैसे तो सिरदर्द एक आम समस्या है, लेकिन यह ब्रेन ट्यूमर की एक शुरूआती लक्षण भी हो सकता है. हालाँकि, हर सिरदर्द ब्रेन ट्यूमर नहीं होता। एक स्टडी बताती है कि 700 में से एक को ब्रेन ट्यूमर की शिकायत होती है. अगर शुरू में इसके लक्षण का पता चल जाये तो 95% लोगों का इलाज पूरी तरह संभव हो सकता है. पढ़िए ये पूरी जानकारी।

पहले जानिए क्या होता है ब्रेन ट्यूमर

दिमाग में ट्यूमर कई कारणों से बन सकता है. किसी तरह के संक्रमण से तो किसी प्रदूषित भोजन के सेवन से भी ट्यूमर की समस्या हो जाती है, जो बाद में एक बड़ी बीमारी का कारण बनती है. ये कोशिकाएं पहले टिश्यू बनते हैं और फिर मरते भी नहीं है. समय के साथ साथ ब्रेन ट्यूमर बढ़ता रहता है. यह किसी भी उम्र में हो सकता है.

क्या सारे ब्रेन ट्यूमर कैंसर होते हैं ?

यदि यह जवाब आपके जहन में आता है तो आपको बता दें कि सभी ट्यूमर कैंसर नहीं होते हैं. एक व्यस्क शरीर में लगभग पचास फीसदी प्राइमरी ब्रेन ट्यूमर कैंसर होते हैं, जबकि बाकि पचास फीसदी गैर कैंसर की श्रेणी में आते हैं. कैंसर वाले ट्यूमर का इलाज रेडियोथेरेपी और कीमोथेरपी से किया जाता है. इनके दुबारा होने के गुण होते हैं. वहीं गैर कैंसर ट्यूमर को ऑपरेशन से ठीक किया जा सकता है और मरीज में उसकी कोशिकाएं दुबारा बनने के चांस ख़त्म हो जाते हैं.

ब्रेन ट्यूमर क्यूं होता है.

अधिकतर ब्रेन ट्यूमर के सही कारणों का पता नहीं है, लेकिन ज्यादातर जेनेटिक और पर्यावरण सम्बन्धी होता है. रेडिएशन के संपर्क में होने से भी यह होता है. धूम्रपान, तम्बाकू और शराब का सेवन करने वालों में यह समस्या ज्यादा है.

कैसे जाने कि ट्यूमर है की नहीं

अधिकतर ब्रेन ट्यूमर के सही कारणों का पता करना संभव नहीं है. लेकिन इसका पता आपको एमआरआई, सिटी स्कैन, एनजीओग्राफी, स्पाइनल टेप के कराने से हो सकता है. इसके अलावा डॉक्टर न्यूरोलॉजिकल टेस्ट करके भी पता कर देते हैं.

ब्रेन ट्यूमर के लक्षण भी जानना है जरुरी

ब्रेन ट्यूमर के लिए आप इन हरकतों से सतर्क हो सकते हैं. लगातार सिर में दर्द, याददाश्त कमजोर होना, दौरा पड़ना, बोलने, सुनने और दिखने में परेशानी होना, जी मिचलाना, डर लगना, चलते वक़्त लड़खड़ाना आदि हैं.

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer