LOCKDOWN में कहें, योग को Yes, कोरोना को No

जैसा की सर्वविदित है कोरोना महामारी पूरे विश्व में फैल चुकी है और इसने चारों तरफ मौत का तांडव मचाया हुआ है. विश्व की बड़ी से बड़ी स्वास्थ्य संस्थाएं और विकसित राष्ट्र भी इस बीमारी के इलाज को अब तक ढूंढ नहीं सकी हैं. ऐसे में बीमारी से निपटने के लिए सोशल डिस्टेंस, लॉक डाउन और योग को सबसे अधिक कारगर कहा जा रहा है.

यशिका

इन बातों का ध्यान रखने के लिए दिल्ली के बच्चे घर में रहकर योग कर रहे हैं. स्कूल बंद होने के बावजूद बच्चे घर में ही रहकर योग कर रहे हैं. दरअसल, यह बच्चे स्कूल में योग सीखते हैं. यह सभी बच्चे नेशनल व स्टेट लेवल योग खिलाड़ी हैं.

जानवी

यह बच्चे कहते हैं कि कोरोना से लड़ने के लिए योग या योग के कुछ स्टेप्स को रोजाना करना होगा। शरीर में वायरस से लड़ने की क्षमता होनी चाहिए, जोकि प्राणायाम, भस्त्रिका, कपालभाति, भ्रामरी प्राणायामऔर सूर्य नमस्कार जैसे योग से बढ़ती है.

अनुष्का

यह बच्चे बताते हैं कि ये निरंतर योग करते हैं और इस कोरोना लॉक डाउन के मुश्किल वक़्त में योग हमारे रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया है और हमें स्वस्थ रहने में मदद करता है I इसलिए आप सभी से अनुरोध है कि आप लोग भी योग करें और स्वस्थ रहें. योग शरीर की स्फ्रुति और मन की एकाग्रता को बढ़ाता है, इसलिए ” जो योग अपनाएगा वह रोगों को दूर भगाएगा “.

तियाना

योग से हमारी मेमोरी पावर तो बढ़ती ही है साथ ही हम विभिन्न बीमारियों से भी बच सकते हैं। ये बच्चे एस डी पब्लिक स्कूल,पीतमपुरा, दिल्ली के योगा आर्टिस्ट ग्रुप के हैं और उनके योग गुरु श्री हेमन्त शर्मा भी ये मानते हैं कि कोरोना जैसी महामारी से लड़ने के लिए योग एक मात्र ऐसा उपाय है जिससे हम घर रहकर पूरी तरह स्वस्थ रह सकते हैं।

प्रतिष्ठा

आपको बता दें कि यह बच्चे दिल्ली के पीतमपुरा स्थित “एस डी पब्लिक स्कूल” में पांचवीं कक्षा में पढ़ते हैं. इनके नाम गिताक्षी,याशिका,जानवी,वैष्णवी, अनुष्का,प्रतिष्ठा, यासमीन एवं तियाना हैं. यह बच्चे लगभग 3 वर्ष से योग कर रहे हैं. यह सभी बच्चे नेशनल व स्टेट लेवल योग खिलाड़ी हैं.

वैष्णवी
यास्मीन

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer