आग में फंसी और हो गई शादी। नरगिस दत्त की अनसुनी कहानी

पिछले दशक में बॉलीवुड से कई फिल्में निकलकर आईं, जिनमें हीरो नहीं बल्कि हीरोइन का दबदबा देखने को मिला. लेकिन 60-70 के दशक में तमाम लोगों के दिलों की धड़कन नरगिस को भारतीय सिनेमा की पहली ऐसी अदाकारा कहा जा सकता है, जिन्होंने फिल्मों में नारी की मौजूदगी को बहुत ऊंचाइयों पर ला कर खड़ा कर दिया था.

नरगिस का जमाना देखने वाले लोगों से अगर आज भी नरगिस के बारे में बात की जाए तो एक अजीब-सी दिलकश मुस्कुराहट उनके होठों पर तैर आती है। ‘मदर इंडिया’ फिल्म में सुनील दत्त की मां के रूप में या ‘बाबुल’ की गंवार लड़की… नरगिस ने अपने हर किरदार को बखूबी निभाया और लोगों के दिलों में ऐसी छाप छोड़ी जो आज तक बरकरार है। बतौर लीड हीरोइन नरगिस का यह गाना पुराने गानों के शौकीन आज भी सुनते हैं.

अब आपको संजय दत्त की मां नरगिस की कुछ निजी बातें आपके साथ शेयर करते हैं. नरगिस का नाम फातिमा रशीद था और उनकी मां थीं जद्दनबाई। नरगिस ने पांच साल की छोटी सी उम्र में ही एक फिल्म ‘तलाशे हक’ में चाइल्ड एक्टर बॉलीवुड में एंट्री की थी. फिर नरगिस ने 14 साल की उम्र में महबूब खान की फिल्म ‘तकदीर’ में मोतीलाल जैसे कलाकार के साथ अभिनय किया। तकदीर सबको बहुत पसंद आई। उसके बाद नरगिस ने राज कपूर के साथ ‘आह’ फिल्म में काम किया, फिर उन्होंने अंबर, मेला, अंदाज, आग, दीदार, जोगन, बाबुल, पापी, चोरी चोरी, हलचल, लाजवंती, अदालत, बरसात, श्री 420, मदर इंडिया जैसी सुपरहिट फिल्मों में दिलीप कुमार, राज कपूर, अशोक कुमार, प्रदीप कुमार, बलराज साहनी, सुनील दत्त जैसे बड़े कलाकारों के सा​थ काम किया था और उनकी आखिरी फिल्म ‘रात और दिन’ थी।

इन सभी फिल्मों में नरगिस के ‘मदर इंडिया’ फिल्म के ममतामयी मां वाले किरदार को काफी पसंद किया गया था. इस फिल्म को जिन्होंने देखा होगा, उन्हें वो मेकअप किया हुआ बुजुर्ग मां का चेहरा अपने आप याद आ जाता होगा. फिल्म में जमींदार के अत्याचारों, कर्जों से व्यथित किसानों, भूख से पीड़ित इंसान व वर्षों से अभाव में प्यासी धरती व भूखे पशुओं की दयनीय दशा पर बनी फिल्म ‘मदर इंडिया’ नरगिस की सबसे बड़ी फिल्मों में से एक थी. इस फिल्म तक नरगिस की शादी भी नहीं हुई थी। सुनील दत्त से उनके रोमांस की शुरुआत इसी फिल्म की शूटिंग के दौरान हुई थी.

हुआ यूं था कि मदर इंडिया में सुनील दत्त ने उनके बेटे का रोल अदा किया था। फिल्म में एक सीन था जब आग के बीच में नरगिस को फंसा हुआ दिखाना था। इसमें आग का एक सीन था लेकिन दुर्भाग्यवश आग इतनी भड़क गई कि नरगिस उस आग में असलियत में फंस गईं। लेकिन सुनील दत्त ने अपनी जान पर खेलकर उन्हें बचा लिया। सुनील दत्त का यही रूप देख नरगिस उन्हें अपना दिल दे बैठीं और दोनों ने शादी कर ली और उसी के बाद नरगिस ने ​फिल्मों को अलविदा कह दिया.

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer