वायु प्रदूषण से हर साल इतनी मौत, सुनकर दंग रह जाएंगे आप

वर्ल्ड हैल्थ ऑर्गनाइजेशन WHO ने कहा है कि हवा में फैल रहा प्रदूषण ‘नया तंबाकू’ है।

हाल ही में वर्ल्ड हैल्थ ऑर्गनाइजेशन ने दुनिया को हवा से जुड़े प्रदूषण के लिए चेताया है। डब्लू एच ओ के मुताबिक, वायु प्रदूषण अपने आप में एक नया तंबाकू बन चुका है, जोकि हर साल 70 लाख लोगों की जान ले रहा है। इसमें सबसे ज्यादा बच्चे चपेट में आ रहे हैं। इतना ही नहीं, भले ही यह संख्या इस वक्त लाख में हो, लेकिन करोड़ों लोगों को इसका नुकसान हो रहा है।

डब्लूएचओ की एक रिपोर्ट में सामने आया है कि दुनिया की लगभग 90 फीसदी जनसंख्या वायु प्रदूषण की चपेट में है। हवा में खतरनाक टॉक्सिक है, जोकि जानवरों के साथ-साथ इंसान के स्वास्थय के लिए अपने आप में खतरनाक है। डब्लूएचओ के अधिकारी मानते हैं कि यह समस्या इतनी गंभीर होती जा रही है कि आज के वक्त इसे ‘हैल्थ इमरजेंसी’ कहा जाए, तो अतिश्योक्ति नहीं होगी।

डब्लूएचओ के डायरेक्टर जनरल डॉक्टर टेडरॉस ने हाल में कहा है कि दुनिया तंबाकू से होने वाली बीमारी से धीरे-धीरे ग्रस्त हो रही है। इसी लिए आज की आवोहवा को दुनिया के लिए ‘नया तंबाकू’ कहा जा सकता है।

इससे निपटने के लिए न तो अमीर और न ही गरीब सशक्त है। यह अपने आप में एक धीमा जहर है, जोकि सभी के शरीर में धीरे- धीरे जा रहा है। इसका सबसे अधिक नुकसान उन बच्चों को है, जो पैदा हुए हैं और अभी बढ़ रहे हैं। इनके शरीर के लिए यह हवा काफी खतरनाक है। डब्लूएचओ ने यह भी कहा है कि दुनिया की लगभग 30 करोड़ आबादी ऐसे इलाकों में अपना जिदंगी काट रही है, जहां यह हवा में मिले हुए टाक्सिक की मात्रा बाकी दुनिया से छह गुना है।

 

Image Source : www.pixels.com

Content Source : www.dailymail.co.uk

त्रिभुवन शर्मा ने पत्रकारिता में अपने करियर की शुरुआत द टाइम्स ऑफ इंडिया ग्रुप के हिंदी अख़बार "सांध्य टाइम्स" के साथ साल 2013 में की थी. 4 साल अख़बार में हार्डकोर जर्नलिज्म को वक़्त देने के बाद उन्होंने Nightbulb.in को 2018 में लॉन्च किया

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer