जानें, हिचकी क्यूं होती है और क्या हैं इसके उपाय

हमारे समाज में हिचकी को एक बीमारी के तौर पर नहीं इस बात से जोड़ा जाता है कि हमारे प्रियजन, जानने वाले, दोस्त, परिचित हमें याद कर रहे हैं। लेकिन इसके अन्य कारण होते हैं। हाल ही में बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री रानी मुखर्जी की एक फिल्म आई थी, जिसका नाम हिचकी था। इस फिल्म में दिखाया था कि हिचकी किसी के लिए परेशानी का भी सबब बन जाती है। वैसे तो हिचकी कोई गंभीर रोग नहीं है, लेकिन यह गंभीर रोग पैदा होने का संकेत देती है। इस खबर में आपको बताते हैं कि हिचकी किन कारणों से होती है और इससे घरेलु उपचारों से कैसे बचा जा सकता है।

हिचकी आने की कई वजह होती हैं

 

  • जिसमें उत्तेजक दवाई लेने पर, जरूरत से ज्यादा खाना खाने पर, मर्चि मसालेदार खाना खाने पर, देर से पचने वाले खाने की वजह से, धूल-धुंआ के साथ- साथ व्रत रखने की वजह से भी हिचकियां आने लगती हैं।

हिचकी दूर करने के उपाय

  • जर्मनी के एक वैज्ञानिक का कहना है कि अगर हिचकियां अापको लगातार आती हैं, तो आप कुछ दाने शक्कर के निगल लो।

 

  • ताली मूली के पत्ते का रस चूसते रहे, इससे भी हिचकी आना बंद हो जाती हैं।

 

  • अवाइन के दाने मुंह में दबाकर उसका रस चूसते रहें।

 

  • नारियल के बुरादे में मिस्री डालकर सेवन करें।

 

  • कागजी नींबू का रस चूसते रहें।

 

  • पिसी काली मिर्च और पिसी मिस्री आधा- आधा चम्मच मात्रा में मिलाकर पानी के साथ फांकने से हिचकी बंद हो जाती है।

 

  • हर घंटे के अंतराल पर एक-एक चम्मच शुद्ध शहद चाटने से हिचकी में आराम मिलता है।

 

  • पोदीने के पत्ते मुंह में रखकर चूसें या पोदीने के साथ शक्कर मिलाकर चबायें।

 

  • गाय के दूध में मिस्री डालकर पीएं।

 

  • एक छोटा चम्मच तुलसी का रस, आधा चम्मच शहद एक साथ मिलाकर सुबह शाम लें।

 

  • मुलहठी का चूर्ण शहद के साथ चाटने से हिचकी आनी बंद हो जाती है।

 

  • चार छोटी इलायची छिलका सहित कूट लें, उसे आधा लीटर पानी में उबालें। जब पानी आधे से कम रह जाए तो उतारकर छान लें एवं रोगी को कुनकुना पिला दें।

 

आपके पास इनमें से जो भी चीज मौजूद हो, उसका सेवन करें। इन तरीकों से हिचकी जरूर बंद हो जाएगी।

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer