Hair Dryer Kam Krta Hai Sochne Ki Shakti I NightBulb-Hindi-story

हैयर ड्रायर कम करता है सोचने की शक्ति। जानिए कैसे…

हैयर ड्रायर कम करता है सोचने की शक्ति

क्या आप जानते हैं कि घर में रखे इलेक्ट्रॉनिक आइटम आपके दिमाग के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं? अगर नहीं जानते तो यह खबर जरूर पढ़िए।

हाल ही में आई एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, इलेक्ट्रॉनिक आइटम जैसे ब्लूटूथ, हेयर ड्रॉयर, टेलीविजन जैसे इलेक्ट्रॉनिक आइटम से दिमाग की शक्ति कमजोर होती है। वैज्ञानिकों का मानना है कि चाहे इन एप्लाइंसिस में से आवाज भले ही कम होती हो, लेकिन फिर भी ये आपके दिमाग की सोचने की शक्ति पर निगेटिव यानी नकारात्मक असर डालते हैं।

शहरों में है ज्यादा समस्या

यूनिवर्सिटी ऑफ लोआ में इस रिसर्च पर काम करने वाले मोउना अटारा के मुताबिक, इन एप्लाइंसिस के जरिए यह समस्या मॉर्डन सोसाइटी और शहरी आबादी में तेजी से बढ़ रही है। मोउना के मुताबिक, पहले यह रिसर्च जानवरों पर की गई, जिसके बाद वही असर हमनें इंसान पर होता हुआ देखा। रिसर्च में पाया गया कि स्वास्थय विभागों द्वारा बनाए गए नियमों के अंतर्गत भी जितनी ध्वनि का इस्तेमाल किया जाना चाहिए, उससे कम होने के बावजूद इनका असर दिमाग पर पड़ता है।

म्यूजिक सुनने से बढ़ रही है बेहर पन की समस्या

इतना ही नहीं, वैज्ञानिकों का मानना है कि पूरी की पूरी जनरेशन खतरे में है। अगर जनरेशन ज्यादा म्यूजिक सुनती रहेगी, तो आने वाले समय में सभी को न सुनने की बिमारी हो सकती है यानी जनरेशन में बेहरापन की समस्या आ जाएगी। रोजबिन सय्यद के मुताबिक, 30 साल से कम उम्र की जनरेशन में ज्यादा म्यूजिक सुनने की वजह से बेहरा पन की समस्या लगभग 10 साल से हो रही है। कानों में लीड लगाकर सुनने का लेवल 85 डेसिबल होता है, जबकि एक जेट की आवाज 110 डेसिबल होती है।

Content source: dailymail.co.uk
Image source:

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer