दिल्ली में यहां मिलेगी आपको साफ हवा

दिल्ली में वायू और ध्वनि प्रदूषण से बचने या फिर कहें छिपने की जगह अगर आपको चाहिए, तो एक बार स्वर्ण जयंती पार्क की सैर जरूर करें। जहां दिल्ली में आम लोगों को सांस लेना भी कई बार भारी पड़ता है, वहीं इस पार्क में आपको हर तरह की इन परेशानियों से कुछ पल के लिए छुटकारा जरूर मिलेगा। इसे दिल्ली का सबसे बड़ा पार्क माना जाता है। वैसे यह पार्क जेपनीज पार्क के नाम से ज्यादा मशहूर है।

कैसा है जेपनीज पार्क

250 एकड़ जमीन पर बना जेपनीज पार्क दिल्ली का सबसे बड़ा पार्क माना जाता है। पेड़- पौधों से भरे इस पार्क को पूरा घूमने के लिए लगभग चार से पांच घंटे का वक्त आसानी से लग जाता है। पार्क में पांच झील बनी हुई हैं, जिसमें एक झील मात्र बत्तखों के लिए बनाई गई है, जिसमें आम लोगों की एंट्री बैन है। हालांकि, झील के ऊपर बने पुल से लोग बत्तखों को आसानी से देख सकते हैं। पार्क के अंदर एक पुराना वायू सेना का विमान भी है, जो दर्शकों के लिए एक आर्कषण का केंद्र भी है। लड़के- लड़कियां इस विमान के आस-पास खड़े होकर सैल्फी और फोटो भी लेते है। रात में घूमने फिरने के लिए लाइटिंग की कोई समस्या यहां देखने को नहीं मिलती।

रोहिणी का खास पाइंट है जेपनीज पार्क

वैसे तो रोहिणी दिल्ली के सबसे खुले और शांतिपूर्ण रेजिडेंशियल इलाके के नाम से जाना जाता है। यहां कई तरह के मॉल हैं, तो एम्यूजमेंट पार्क और कई तरह के एडवेंचर्स पाइंट भी बने हुए हैं। लेकिन इसके बावजूद भी जेपनीज पार्क की अपनी एक अलग अहमियत भी है। स्वर्ण जयंती पार्क में सुबह और शाम के वक्त आम लोग सैर-सपाटे पर तो जाते ही हैं, लेकिन लव-बर्ड का भी यह खास अड्डा है। इसके अलावा क्रिकेट के शॉकीनों के लिए भी जेपनीज पार्क बेस्ट ऑप्शन है। दरअसल, पार्क में ओपन ग्राउंड भी है, जहां नौजवान लड़के क्रिकेट भी खेलते हुए दिखते हैं। 250 एकड़ के इस पार्क में जॉगिंग ट्रैक भी चारों ओर बनाकर तैयार किया हुआ है।

फोटोग्राफी के लिए भी फेमस है पार्क

यह पार्क घूमने फिरने के लिए जितना फैमस है, उतना ही फोटोग्राफी के लिए भी जाना जाता है। पार्क में लैंडस्केप  फोटोग्राफी के लिए आए दिन फोटोग्राफर आते हैं। दरअसल, हरियाली के साथ- साथ यहां तरह- तरह के पक्षी में देखने को मिल जाते हैं। स्केनिंग पोट्रेट के लिए जेपनीज पार्क बेस्ट ऑप्शन है।

कैसे पहुंचे जेपनीज पार्क

अगर आप अपने वीइकल से जाना चाहते हैं, तो पहले रोहणी में एंट्री कीजिए। एंट्री करने के बाद कोई भी शख्स आपको जेपनीज पार्क का रास्ता आसानी से बता देगा। वैसे बता दें कि यह पार्क रोहिणी सेक्टर-10 में आता है। अगर आप मेट्रो से ट्रैवल करते हुए जेपनीज पार्क पहुंचना चाहते हैं, तो रेड लाइन कॉरीडोर पर बने रिठाला मेट्रो स्टेशन उतरकर यहां पहुंच सकते हैं। जेपनीज पार्क रिठाला मेट्रो स्टेशन से चंद कदमों की दूरी पर ही मौजूद है। यहां एक खासियत यह भी है कि जेपनीज पार्क के जरिए आप अपना वीकेंड भी बना सकते हैं। दरअसल, जेपनीज पार्क के साथ- साथ मेट्रो वॉक और एंडवेंचर आइलैंड भी पहुंच सकते हैं। यह स्पॉट जेपनीज पार्क के नजदीक ही बने हुए हैं।

त्रिभुवन शर्मा ने पत्रकारिता में अपने करियर की शुरुआत द टाइम्स ऑफ इंडिया ग्रुप के हिंदी अख़बार "सांध्य टाइम्स" के साथ साल 2013 में की थी. 4 साल अख़बार में हार्डकोर जर्नलिज्म को वक़्त देने के बाद उन्होंने Nightbulb.in को 2018 में लॉन्च किया

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer