Titali Rani In Pankho Mai | NIghtBulb.in-Hindi Poem

तितली रानी इन पंखों में…

तितली रानी इन पंखों में रंग कहां से लायी हो

क्या तुम नए नए रंगों से, मेकअप करके आयी हो?

आसमान से उतरी हो या परी लोक से आई हो

इंद्र धनुष के रंगों से, क्या रंग चुरा कर लाई हो

कांटों से तुम ज़रा न डरती, फूलों पर मंडराती हो

जा जा कर उनके कानों में क्या कोई गीत सुनाती हो?

दौड़ के जो हम तुमको पकड़ें, झट से तुम उड़ जाती हो

तुम क्या जानों इन रंगों से, कितना खुश कर जाती हो ||

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer