दिल की धड़कनों को यूं बचाइए, जानिए 10 घरेलू बातें

यदि दिल को स्वस्थ्य और सही बीट के साथ धड़कता हुआ देखना चाहते हैं तो अपने खान पान को संभालिए। पिछले कुछ वर्षों में दिल की बीमारी एक बहुत बड़ा रूप धारण कर चुकी है। वैसे तो यह बीमारी अपना शिकार बुजुर्गों को बनाती थी लेकिन अब युवा और किशोर भी इसकी गिरफ्त में फंस रहे हैं। आपका लाइफ स्टाइल और खान पान इसे आपके शरीर का मेहमान बनाता है।
  • यदि डेली व्यायाम, वॉक, साइकलिंग करें तथा खान पान में वेजीटेबल और सीजनल फ्रूट का सेवन करें तो यह भी दिल के दोस्त है।

 

  • आधे घंटे हर दिन व्यायाम, खाने में हरी सब्जी, फल और जूस की मात्रा को अधिक करें। सीजनल फ्रूट खाएं। हरी शाक सब्जी को थोड़ा कम पका कर खाएं।

 

  • अपने ब्लड प्रेशर को कंट्रोल कर के रखें। यदि बीपी 120/80 से थोड़ा भी ज्यादा है तो डेली वॉक पर जाएं इससे मन शांत रहता है, ताजगी मिलती है और मेडिसिन और मेडिकल मैनेजमेंट के अलावा यदि न्यूट्रीशन डाइट लें तो दिल की बीमारी से बचा जा सकता है। जिंदगी को हां कहें और सिगरेट, तंबाकू को जितनी जल्दी हो ना कहें। यदि ऐसा नहीं कर पा रहे हैं सिगरेट और तंबाकू की मात्रा को कम करें।

 

  • बहुत लोगों का यह मानना हैं कि बादाम और अखरोट में कोलेस्ट्रेल बढ़ाते हैं और ये डायबटीज के पेशेंट के दुश्मन हैं लेकिन यह बिलकुल गलत धारणा है। बादाम और अखरोट प्रतिदिन सेवन करने से कोलेस्ट्राल कम करता है और इसमें काफी मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट होता है जो दिल के लिए अच्छा होता है और इसे खाने से सेटीसफेक्शन भी मिलता है।

 

  • नमक दिल का सबसे बड़ा दुश्मन है। नमक में सोडियम होता है जो दिल को कमजोर करता है। सोडियम प्राकृतिक रूप से शाक सब्जी में होता है। नमक का प्रयोग कम से कम मात्रा में ही करना चाहिए। यदि आप हर्ब्स, मसाले, धनिया, मिंट, लहसुन और नींबू का प्रयोग खाने में कर रहे हैं तो यह सीजनल फूड है और यह आपको स्वस्थ्य बनाते हैं। तो ऐसा क्यूं नहीं करते डायनिंग टेबल से नमक शेकर को बिलकुल ही हटा दें।

 

  • हां, यदि कभी पैक्ड और प्रोसेस्ड फूड खरीदें तो प्रिंटेड मैनुफैक्चर डेट के साथ सोडियम कनटेंट को जरूर पढ़ लें। इसमें मोनोसोडियम ग्लूमेट (अजीनोमोटो), बेकिंग पाउडर, बेकिंग सोडा, पापड, आचार, मिक्सचर, सॉस, प्रोसेस्ड चीज, बैकन, हैम, रेडीमेड सूप और प्रिजरव्ड फूड में काफी मात्रा में सोडियम पाया जाता है जो दिल के लिए खतरा पैदा करता है।

 

  • यदि हम फैट की बात करें तो तेल, घी और बटर भी दिल की धड़कन को कमजोर करते हैं। धड़कन को मजबूत रखने क लिए प्रतिदिन 3 से चार चम्मच तेल का प्रयोग ही करें। वैसे तो मोनोसैचुरेटेड फैट (मुफा) ओलिव, कनोला, कुर्दी और मस्टर्ड ऑयल दिल के दोस्त हैं और पोलीसैचुरेटेड फैट (पुफा) सनफ्लावर, कोर्न और तिल का तेल दिल के दुश्मन हैं और यदि मुफा और पुफा को मिला कर प्रयोग किया जाए तो दिल के लिए काफी अच्छा होता है।

 

  • यदि आप नॉनवेजीटेरियन हैं समुद्री मछलियां अच्छी होती है ये बुरे कैलोस्ट्रोल को कम करता है और इसमें ओमेगा 3 फैटीएसिड भी पाया जाता है जबकि फल, वेजीटेबल, ओट, इसबगोल और दाल के सेवन से भी कोलेस्ट्राल कंट्रोल रहता है।

 

  • 2, 3 लहसुन की कली कॉलेस्ट्राल को कम करती है वहीं आर्थेरोसेलेरोसिस के ट्रीटमेंट में भी सहायक होता है। चार से पांच बादाम और 2 अखरोट में ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है जो ट्राइग्लिसराइट और कोलेस्ट्राल को कम करता है। शराब और सिगरेट पीने वालों के दिल में ऑक्सीजन की कमी रहती है और यह सबसे बड़ा कारण है दिल की बीमारी का। स्टडी बताती है कि एक ग्राम एल्कोहल में 7 ग्राम कैलरी होती है।

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer