Rakhi_aaya-rakhi-ka-tyohar-hindi-poem-festival:hindi-poem

‘आया राखी का त्योहार’

आया राखी का त्योहार,
ये है भाई बहन का प्यार
आना आना मेरे द्वार, मेरे भैया,
आया राखी का त्योहार मेरे भैया

कोई न मोल है इस बंधन का,
अमर प्यार ये भाई बहन का
ऐसा है रेशम का तार, मेरे भैया,
आया राखी का त्योहार, मेरे भैया

आये मेरा भैया अंगना बुहारूँ,
दीप जलाकर तेरी आरती उतारूं
घर का तू ही है उजियार, मेरे भैया
आया राखी का त्योहार मेरे भैया

बलिहारी जाऊं तेरा रूप निहारूं,
नज़रों से ही तेरी नज़र उतारू
तू ही है मेरा संसार, मेरे भैया
आया राखी का त्योहार मेरे भैया

तुम जो ना आए तो, बहना उदास होगी,

अंखियों में नीर होगा, मिलने की आस होगी
करती हूं तुमसे मनुहार, मेरे भैया
आया राखी का त्योहार मेरे भैया

कोई ना सोच करना, बस चले आना,
रेशम के धागे का रिश्ता निभाना
आना ही तेरा उपहार,मेरे भैया
आया राखी का त्योहार मेरे भैया

आया राखी का त्यौहार
ये है भाई बहन का प्यार
आना आना मेरे द्वार, मेरे भैया
आया राखी का त्योहार मेरे भैया

Image source: www.kisspng.com

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer