मास्क सिन्हा के असली नाम का मजाक उड़ाते थे दोस्त, कहते थे ‘Dalda’

नमस्कार, आपका एक बार फिर से स्वागत है समाचार लाइव के स्पेशल कॉलम बॉलीवुड गोल्ड में. हम यहां आपको बताते हैं बॉलीवुड से जुड़े किस्से और कहानियां. समाचार लाइव के इस विशेष कॉलम को हर हफ्ते सुनने के लिए आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर लीजिए और बेल आइकन भी दबाइए ताकि आपको बॉलीवुड के किस्से और कहानियां बिना सोच विचार के आसानी से मिल सकें.

चलिए आज आपको बताते हैं एक ऐसी एक्ट्रेस के बारे में जिनका किसी वक्त उनके नाम की वजह से मजाक उड़ाया जाता था, तो उन्होंने अपना नाम ही बदल लिया. हम बात कर रहे हैं 1950 और 1960 की मशहूर एक्ट्रेस की जिनका बचपन में नाम आल्डा था, तो उनके क्लास के बच्चे उन्हें डालडा कहकर मजाक उड़ाया करते थे. वे एक नेपाली परिवार में जन्मी थीं. हालांकि, उन्होंने आगे चलकर आप नाम बदल दिया और उन्हें बाद में सभी माला सिन्हां के नाम से जानने लगे.

वैसे तो माला सिन्हा एक ​हीरोइन से पहले चाइल्ड आर्टिस्ट भी रह चुकी थीं. इसके अलावा वो आल इंडिया रेडियो पर बतौर सिंगर भी काम कर चुकी थीं. डांस और गाना उन्होंने बचपन में ही सीख लिया था और कई स्टेज शो भी कर चुकी थीं. ये वो वक्त था, जब लड़कियों को घर से बाहर निकलने नहीं दिया जाता था. लेकिन माला सिन्हां जैसी आर्टिस्ट को कौन रोक सकता था. आखिरकार वो बॉलीवुड की पॉपुलर एक्ट्रेस बनीं.

माला सिन्हा के लिए 1957 में आई फिल्म प्यासा उनके बॉलीवुड में करियर का ​टर्निंग पाइंट बनी. इस फिल्म के बाद उन्होंने कई बड़ी फिल्मों में काम किया. इन फिल्मों में Phir Subah Hogi, Dhool Ka Phool, Parvarish, Ujala, Main Nashe Main Hoon, Duniya Na Mane, Love Marriage, Bewaqoof, Maya, Hariyali Aur Rasta, Dil Tera Deewana , Anpadh और Bombay Ka Chor.

माला सिन्हा ने बॉलीवुड के कई सुपरहिट कलाकारों के साथ काम किया, इनमें Raj Kapoor, Dev Anand, Kishore Kumar और Pradeep Kumar थे. इसके अलावा उस वक्त के उभरते सितारे ​Shammi Kapoor, Rajendra Kumar, Raaj Kumar, Manoj Kumar, Dharmendra, Rajesh Khanna, Sunil Dutt, Sanjay Khan, Jeetendra और Amitabh Bachchan के साथ भी माला सिन्हा ने काम किया. ये वो दौर था जब फिल्मों में एक्टर का रोल पावरफुल होता था, लेकिन इसे आप माला सिन्हा की किस्मत मान लीजिए कि उनके ज्यादातर ​किरदार ​हीरो से ज्यादा पावरफुल ही रहे.

माला सिन्हा बॉलीवुड में 1950 से 1970 के दशक में लीड रॉल निभाती रहीं, लेकिन उन्होंने शायद ही कभी सोचा होगा कि वो इस पॉपुलरिटी का हिस्सा बन पाएंगी. दरअसल, माला सिन्हा का सिंगर बनने का भी उतना ही मन था, जितना एक एक्ट्रेस बनने का. 1945 से 1970 के बीच उन्होंने ​बतौर सिंगर कई स्टेज शो भी किए थे. उन्होंने एआईआर यानी आल इंडिया रेडियो में भी बतौर सिंगर इसीलिए ही काम किया था, ताकि वो अपना करियर सिंगिंग में बना सके.

Leave a reply:

Your email address will not be published.

Site Footer